hawaii casual encounters
/gspeech}   Click to listen highlighted text! /gspeech}

Month: August 2019

Month: August 2019

धंधे मातरम
25 Aug 2019 Poem Niraj Pathak

(कर्म ही पूजा है) इसके-उसके काम करूं मैं, चिंता नहीं आराम की। वक्त की रेत मुट्ठी से फिसले, तब याद आए भगवान की।। धंधे मातरम

Read More
Click to listen highlighted text!