hawaii casual encounters
/gspeech}   Click to listen highlighted text! /gspeech}

Category: Poem

Category: Poem

दुनिया में आये हैं, कुछ कर जाना है…
16 Oct 2020 Poem Niraj Pathak

दुनिया में आए हैं, कुछ कर जाना है। काम करें हम ऐसे, कल मर जाना है।। रोज यहां जीने को, व्यापार चलाना है [01]  

Read More
धंधे मातरम
25 Aug 2019 Poem Niraj Pathak

(कर्म ही पूजा है) इसके-उसके काम करूं मैं, चिंता नहीं आराम की। वक्त की रेत मुट्ठी से फिसले, तब याद आए भगवान की।। धंधे मातरम

Read More
अद्भुत दोहे
25 Jul 2019 Poem Niraj Pathak

मात पिता की सेवा में, जिसने भी मन लगाया। सकल मनोरथ पूर्ण हुये। फिर उसने हरि पद पाया।।   सदैव अपने ईश से, यही याचना

Read More
राष्ट्र गाथा
25 Jun 2019 Poem Niraj Pathak

राष्ट्रगाथा क्रांति रक्त से रंजित हो, जब धरा हुई थी लाल। उस मृदा से हर पौरूष का, अब शोभित है कपाल।01। राष्ट्र गाथा रची इन्होंने,

Read More
Click to listen highlighted text!